Shiv Tandav Stotram PDF in Sanskrit

[पीडीएफ] शिव तांडव स्तोत्रम पीडीएफ डाउनलोड

महान। आप आखिरकार अपनी पसंदीदा पीडीएफ जरूरतों के पीडीएफ के लिए सबसे अच्छे स्थान पर आ गए हैं। अपने पीडीएफ खोजें, एक क्लिक पर डाउनलोड करें और जाने पर पढ़ने का आनंद लें।

शिव तांडव स्तोत्रम पीडीएफ विवरण
Shiv Tandav Stotram PDF in Sanskrit
पृष्ठों की संख्या:  1
पीडीएफ साइज:  0.11 एमबी
भाषा: संस्कृत
श्रेणी:  धर्म और आध्यात्मिकता
स्रोत:  upload.vedpuran.net

Shiv Tandav StotramDownload

शिव तांडव स्तोत्रम डाउनलोड

Sanskrit Shiv Tandav Stotram

शिव तांडव स्तोत्र में शिव की शक्ति और सुंदरता को परिभाषित किया गया है। कहा जाता है कि रावण, लंका के राजा और शिव भक्त थे, जिन्होंने इसका निर्माण किया था। शिव तांडव स्तोत्रम को पीडीएफ प्रारूप में डाउनलोड करने के लिए नीचे दिए गए मार्गदर्शिका का उपयोग करें या इसे मुफ्त में ऑनलाइन पढ़ें।

रावण द्वारा मूल श्री शिव तांडव स्तोत्रम

जटाटवीगलज्जल प्रवाहपावितस्थले
गलेऽवलम्ब्य लम्बितां भुजंगतुंगमालिकाम्‌।
डमड्डमड्डमड्डमनिनादवड्डमर्वयं
चकार चंडतांडवं तनोतु नः शिवः शिवम ॥1॥

जटा कात हश्रभम भ्रामनिलिमपनिरजारी।
विलोलवी चिवलारी विराजमानमूर्धनी।
धगधगध गज्ज्वलल्ललाट पट्टपावके किशोरचंद्रशेखरे रति:
प्रतिक्षणं मम म2 ग

धरेन्द्र नंदिनी लग्जरी बन्धुवन्धुरा
स्फुरद्रेता बच्चे प्रमोद मनमनासे धारण करें।
कृष्णकटु क्षेत्राभियाँ निर्बुदुर्धरापदी कवचिद्विगम्बरे मन विनोदमेतु
वस्तुनि ुन3 ी

जटा भुजं गपिंगल स्फुरत्फामणिप्रभा-
कदंबकुंकुम द्रवप्रपद दीग्वधूमुके।
मदनध सिंधु रस्फुरत्वगुत्तरीयमेदुरे
मृत्यु विनोद्द्रुतुतं बिम्बर्तु भूतभर्तरि ॥4 ु

सहस्र लोचनप्रभुतस्य शेषलेशेखर-
प्रसून धुलि धोरानी विदुसरंगृपतिभूः।
भुजंगराज
माल्या निबद्धजाटजुतक: श्रीये चिराय गोष्ठी चकोर बंधुशेखर: या5 या

ललाट चत्वरज्वलद्धनंजयस्फुरिगभा-
निपीतपंचसायकं निमन्निलिंपनायम्‌ ।
सुधा मयुख लेखया विराजमानशेखरं
महा कपालि संपदे शिरोजयालमस्तू नः ॥6॥

कराल
भाल पितिकधगद्गद्गधजजवल- धनंजय धरिकृत प्रपंचपंचासयके।
धराधरेन्द्र नन्दिनी कुचाग्रतप्रचत्रक-
प्रकल्पनाशिलापिनी त्रिलोचने मतिरामम्।

नवीन मेघ मंडली निरुद्धदुर्धरस्फुर-
त्कुहु निशीथिनीतमः प्रबंधबंधुकंधरः ।
निलिम्पनिर्झरि धरस्तनोतु कृत्ति सिंधुरः
कलानिधानबंधुरः श्रियं जगंद्धुरंधरः ॥8॥

प्रफुल्ल नील पंकज प्रपंचकालिमच्छटा-
विडंबि कंठकंध रारुचि प्रबंधकंधरम्‌
स्मरच्छिदं पुरच्छिंद भवच्छिदं मखच्छिदं
गजच्छिदांधकच्छिदं तमंतकच्छिदं भजे ॥9॥

अगर्वसर्वमंगला कलाकदम्बमंजरी-
रसप्रवाह माधुरी विजृंभणा मधुव्रतम्‌ ।
स्मरांतकं पुरातकं भावंतकं मखांतकं
गजांतकांधकांतकं तमंतकांतकं भजे ॥10॥

जयत्वदभ्रवीभ्रम भ्रमरीजंगमस्फुर- द्धगद्गद्वि जारीत्कराल
वाणी हव्यवात- धिमग्निमग्निमि नंमृदंगतुंगमंगल- ध्वनिक्रमपदितं
प्रचंड
ताण्डवः शिवः ॥11 वि

दृषद्विचित्रतल्पीयोर्भुजंग मौक्तीकमस्रजो-
रागिष्ठरत्नलोष्टयोः सुहृद्विपक्ष विपक्षयोः।
तृणविंदचक्षुशो: प्रजामिहेन्द्रयोः
समं प्रवर्तयन्मनः । सदाशिवं भजे ॥12 च

कदा निलिंपनिर्झरी निकुजकोटरे वसन्‌
विमुक्तदुर्मतिः सदा शिरःस्थमंजलिं वहन्‌।
विमुक्तलोललोचनो ललामभाललग्नकः
शिवेति मंत्रमुच्चरन्‌कदा सुखी भवाम्यहम्‌॥13॥

निलिंप नाथनागरी कदंब मौलमालिका-
निगुंपन्हिरभक्षारं धुश्निकमनोहरः।
तनोतु नो मनोमुदं विनोदिनींमहिंशं परश्रयं परमं पदम् तदांगजतविशनं च ।14
:।

प्रचंड वडवानल
प्रभाशुभ प्रचारणी महास्तसिद्धिकामिनी
विमुक्त वाम लोचनो
विवाहसंध्वनिः शिवेति मन्त्रभूषगो जगज्जयाय जायताम्। विवाह15 विवाह

इस नित्यमेव मुक्तामृतमोत्तमं सत्यम् पठानस्मन्त्रं ब्रुवन्नरो
विशुद्धमिति संतताम्।
हरे गुरौ सुभक्तिमेषु याति नान्यथा गतं
विमोहनम् हि देहना तु शंकरस्य चिन्तनम्।

पूजा के समय शशपूजनमिदम् में दशावतार
गीतों का पाठ किया जाता है।
तस्य स्थिरां रथजेंद्रेंद्रुरंगुक्तिं लक्ष्मी सदैव
सुवनं प्रददाति शंभुः र17 र

॥ इति शिव तांडव स्तोत्रं संपूर्णम्‌॥

शिव तांडव स्तोत्रम Pdf डाउनलोड

मुझे उम्मीद है कि आपको हमारी वेबसाइट से अपना शिव तांडव स्तोत्रम पीडीएफ डाउनलोड करने में मज़ा आया होगा। सुझावों के लिए, साइट पर टिप्पणी करें। आप जिस भी तरीके से आपकी आवश्यकता होती है, उसे देने के लिए हम लगातार काम कर रहे हैं। धन्यवाद।

यदि शिव तांडव स्तोत्रम पीडीएफ डाउनलोड लिंक टूट गया है या कोई अन्य समस्या है, तो कृपया आवश्यक सामग्री जैसे कि कॉपीराइट सामग्री / प्रचार सामग्री / टूटी हुई कड़ी, आदि का चयन करके आईटी को रिपोर्ट करें, यदि शिव तांडव स्तोत्रम पीडीएफ एक कॉपीराइट आइटम है, तो हम करेंगे एक पीडीएफ या कोई अन्य डाउनलोड स्रोत शामिल नहीं है।

Leave a Reply

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *